water chestnut in hindi सिंघाड़ा हिंदी में

इस ब्लॉग में हमने water chestnut in hindi के चमत्कारी फायदे के बारे में बताया है कि इसके क्या क्या फायदे है और इसको कब इस्तेमाल या सेवन करना चाहिए। इसका उपयोग यदि किसी दुर्बल व्यक्ति के ऊपर किया जाए तो वह व्यक्ति जल्द से जल्द शारीरिक रूप से स्वस्थ्य होकर अपनी दुर्बलता को दूर कर सकता है। तथा इसका सेवन दुर्बल शरीर के लिए रामबाण उपाय है इसके साथ साथ कई रोगों में भी बहुत लाभप्रद है। जैसे की गले की समस्या और इसके सेवन से महिलाओ में गर्भपात नहीं होता है। तथा इसके सेवन से कब्ज जैसी बिमारियों से भी छुटकारा मिलता है। और जिस व्यक्ति को नींद न आती हो या अनिद्रा की समस्या हो तो वो व्यक्ति सिंघाड़ा का सेवन करे बहुत लाभ मिलेगा।

( इसे जरूर पढ़े weight loss tips in hindi वजन कम करने का तरीका )

water chestnut benefits in hindi सिंघाड़े के फायदे हिंदी में

बिमारियों से बचने के लिए मौसमी फलो का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए क्योकि ये हमें बिमारियों से लड़ने के लिए ऊर्जा प्रदान करते है। इन फलों में एक खास फल सिंघाड़ा भी पाया जाता है जो केवल सर्दियों में ही मिलता है और यह हमारे लिए बहुत फायदेमंद होता है। इस फल में काफी मात्रा में पौष्टिक तत्व और विटामिन भी पाया जाता है। त्रिकोण के आकार के इस फल को हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा माना गया है।

water chestnuts flour in hindi सिंघाड़ा आटा हिंदी में

हम बात कर रहे हैं सिंघाड़ा की जिसे इंग्लिश में वाटर चैस्टेन कहा जाता है।यह सितंबर और अक्टूबर के महीने में पाया जाता है। सिंघाड़ा एक जलीय पौधे का फल है जो भारत में पाया जाता है। इसके टैंक झीलों , तालाबों ,नदी इत्यादि में खेती की जाती है। यह काले और हरे रंग में बाजार में मिलता है। इसका आटा भी बाजार में मिलता है।इसका आटा बनाने के लिए सबसे पहले इसके बीच को सुखाया जाता है। इसका सेवन शरीर को शक्ति प्रदान करता है और साथ ही शरीर में खून की कमी नहीं होने देता है।

water chestnut in hindi सिंघाड़ा हिंदी में
water chestnut in hindi सिंघाड़ा हिंदी में

water chestnut nutrients in hindi सिंघाड़ा के पोषक तत्व हिंदी में

गर्भवती महिलाओं के लिए भी इसका सेवन बहुत लाभदायक है। सिंघाड़ा हमारे संपूर्ण सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है क्योंकि इसमें मौजूद पोषक तत्व विटामिन ए ,सिट्रिक एसिड ,फास्फोरस, प्रोटीन, निकोटीनिक एसिड ,विटामिन सी ,मैग्नीज ,थायमिन ,कार्बोहाइड्रेट, एनर्जी, डाइटरी फाइबर ,कैल्शियम ,जिंक ,आयरन ,पोटैशियम ,सोडियम ,आयोडीन ,मैग्नीशियम यह सारे विटामिन्स और प्रोटीन हमारे शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। सिंघाड़ा के सेवन से लाभ आपकी पाचन शक्ति पर निर्भर करता है। यह स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के लिए आप प्रतिदिन 20 से 50 ग्राम सिंघाड़ा खा सकते हैं।

आइए अब हम इसके उपयोगों को विभिन्न रोगों में जानते हैं किस प्रकार से फायदेमंद होता है। सिंघाड़ा खाने के फायदे में सबसे पहले जानते हैं गले के लिए सिंघाड़ा गले की कई समस्याओं में राहत पहुंचाता है। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो गले का बैठना, गले की खराश, गले के टॉन्सिल इत्यादि से निजात दिलाने में हमारी मदद करता है।इसके फल के सेवन करने से ज्यादा अच्छा होगा यदि आप सिंघाड़ा का आटा को दूध में मिलाकर सेवन करें तो आपको गले की समस्याओं से जल्द निजात मिल जाएगी। सिंघाड़े के फायदे में से एक अन्य फायदा है जो बेहद ही महत्वपूर्ण गर्भवती महिलाओं के लिए।

water chestnut benefits in pregnancy in hindi गर्भावस्था में सिंघाड़ा के फायदे हिंदी में

जी हां गर्भवती महिलाओं को दूध के साथ सिंघाड़ा खाना चाहिए खासतौर पर जिनका गर्भ 7 महीने से ऊपर हो उनके लिए यह बहुत ही लाभदायक होता है। इसके सेवन से लिकोरिया नामक बीमारी भी ठीक हो जाती है। इसके अतिरिक्त जिन महिलाओं का गर्भ गर्भ काल पूरा होने से पहले ही गिर जाता है उन्हें भी खूब सिंघाड़े का सेवन करना चाहिए। इसके उपयोग से भ्रूण को पोषण मिलता है और मां की सेहत भी अच्छे रहते हैं। सिंघाड़े के सेवन से गर्भपात नहीं होता है। इसके अलावा यह थायराइड में भी बेहद लाभकारी साबित होता है।

सिंघाड़ा शरीर को ऊर्जा देता है इसीलिए इसे व्रत और उपवास के खाने में अलग-अलग तरह से शामिल किया जाता है। इसमें आयोडीन भी मौजूद होता है जो गले संबंधी रोगों से रक्षा करता है। इसका उपयोग थायराइड ग्रंथि को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए भी प्रेरित करता है और थायराइड जैसी समस्या को दूर रखता है। सिंघाड़ा के गुण मुख्य गुणों में से है कि पेट की समस्याओं को भी ये दूर करता है। सिंघाड़े के सेवन से पेट की समस्याओं जैसे कि गैस ,एसिडिटी,अपच इन सब समस्याओ को दूर किया जा सकता है।

what is water chestnut in hindi वाटर चेस्टनट क्या है हिंदी में

पेट की किसी भी समस्या से छुटकारा पाने के लिए सिंघाड़ा एक प्रकार का प्राकृतिक उपचार माना जाता है। जो कि हमारे पेट के लिए काफी लाभकारी है। सिंघाड़े का पाउडर हमारी आंतों में होने वाली आंतरिक गर्मी को हटाने के लिए अत्यंत फायदेमंद है। यह कब्ज की समस्या से भी निजात दिलाता है साथ ही सिंघाड़े के सेवन से बच्चों और बड़ों में भूख ना लगने की समस्या दूर होती है।

अगला फायदा जानते हैं सिंघाड़े के फायदे में से एक महत्वपूर्ण फायदा है यह एड़ियों को फटने से बचाता है। आपको शायद इस बारे में जानकारी ना हो लेकिन एड़िया फटने की शिकायत शरीर में मैग्नीज की कमी के कारण होता है। सिंघाड़ा एक ऐसा फल है जिसके पोषक तत्व में मैग्नीज पाया जाता है।

water chestnuts nutrition info in hindi सिंघाड़े के पोषण की जानकारी हिंदी में

इसीलिए इस फल के सेवन से एड़ियां फटने की समस्या नहीं होती है साथ ही सिंघाड़ा के सेवन से शरीर में रक्त की कमी भी पूरी हो जाती है। इसके बाद सिंघाड़े के लाभ आप खुजली में भी उठा सकते हैं। गर्मीयो के दिनों में कई लोगों को खुजली जैसी समस्या हो जाती है तो इस परिस्थिति में हमें सूखे सिंघाड़े को घिसकर उसमें नींबू मिलाकर रोजाना दाद वाली जगह पर लगाने से खुजली से राहत मिलती है। इसे लगाते वक्त कुछ सेकंड के लिए जलन होती है किंतु बाद में ठंडक मिल जाती है।

इसके अलावा यह बालों को बहुत खूबसूरत बनाता है और झड़ने से भी रोकता है। सिंघाड़े के सेवन से ना केवल स्वास्थ्य को फायदा होता है बल्कि यह हमारे सौंदर्य के लिए भी उपयोगी होता है। बालों के लिए सिंघाड़े का सेवन लाभदायक होता है। मौजूद तत्व बालों को खराब होने से रोकते हैं। इसके सेवन से बालों में मजबूती आती है। और उन्हें सही प्रकार से पोषण भी मिलता है जिसकी वजह से बाल टूटते नहीं हैं।

water chestnut in hindi सिंघाड़ा हिंदी में
water chestnut in hindi सिंघाड़ा हिंदी में

benefits of water chestnut in hindi सिंघाड़े के फायदे हिंदी में

इसके अलावा अगर आप अनिद्रा के शिकार हैं तो सिंघाड़े में पालीफेनोलिक और फ्लेवोनॉइड एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। इसके अलावा एंटीबैक्टीरियल और एंटी कैंसर के गुणों से भरपूर होता है जो लोग इसका सेवन करते हैं उन्हें नींद ना आने की या अनिद्रा की समस्या हो उससे छुटकारा मिल जाता है।इसके अलावा यह पीलिया में बहुत लाभदायक होता है। सिंघाड़े में विषहरण के गुण पाए जाते हैं ।

इस कारण से या पीलिया से ग्रस्त लोगों के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है। पीलिया के मरीज इसे कच्चा या जूस बनाकर इसका सेवन कर सकते है। इसके उपयोग से शरीर के सारे जहरीले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं। सिंघाड़ा खाने से डीहाइड्रेशन में भी लाभ मिलता है ठंड के दिनों में लोग पानी कम पीते हैं जिससे उन्हें डिहाइड्रेशन की समस्या हो जाती है। सर्दियों में डिहाइड्रेशन को दूर करने में सिंघाड़ा काफी लाभ दायक होता है।

water chestnuts calories in hindi वाटर चेस्टनट कैलोरी हिंदी में

इसके सेवन से दस्त की समस्या भी दूर होती है। यह शरीर के लिए बेहतरीन ठंडक देने वाला काम करता है।इसके अलावा अगर आप सेवन सिंघाड़े का सेवन करते हैं तो आपकी त्वचा भी बेहद खूबसूरत रहेगी। सिंघाड़ा जैसे हमारे बाल और सेहत के लिए फायदेमंद है। वैसे ही यह हमारी त्वचा के लिए भी काफी फायदेमंद है।सिंघाड़े का उपयोग हमारे शरीर से विषैले पदार्थ को हटा देता है जिससे हमारे त्वचा दमकने लगती है। यहां तक कि सिंघाड़े की मदद से हम मुंहासे इत्यादि का उपचार भी कर सकते हैं।

आइए कुछ अन्य फायदों को भी जानते हैं सिंघाड़े के वजन घटाने की इच्छा रखने वालों के लिए भी सिंघाड़ा एक बहुत ही अच्छा फल है। पोषक तत्वों की पर्याप्त मात्रा होती है किंतु कैलोरी बेहद कम मात्रा में होती है। इसमें कैल्शियम के भरपूर मात्रा पाई जाती है इसलिए इसका सेवन करने से हड्डियां और दांत दोनों मजबूत होते हैं। यह शारीरिक कमजोरी को भी दूर करता है सिंघाड़े का सेवन रक्त संबंधी समस्याओं को दूर करता है।

water chestnut benefits for skin in hindi त्वचा के लिए सिंघाड़े के फायदे हिंदी में

इसके अतिरिक्त मूत्र संबंधी रोगों के उपचार के लिए भी सिंघाड़े का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है।यह एक औषधि की तरह भी यह कार्य करता है। इसके उपयोग से शरीर में सूजन और दर्द दोनों से राहत मिलती है। शरीर में सूजन आने पर सिंघाड़े के छिलके को पीसकर सूजन और दर्द वाले स्थान पर लगाने से आराम मिलता है।आइए अब हम जानते हैं सिंघाड़ा खाने के नुकसान के बारे में।

किसी भी औषधि का या खाद्य पदार्थ का आप अत्यधिक मात्रा में सेवन करते हैं तो आपको फायदे की जगह लॉस हो सकता है। इसलिए ध्यान रखना चाहिए कि बहुत ज्यादा मात्रा में किसी भी औषधि का सेवन नहीं करना चाहिए जैसे सिंघाड़ा खाने के फायदे हैं वैसे ही सिंघाड़े को अधिक मात्रा में सेवन करने से नुकसान भी है।

disadvantages of water chestnut in hindi सिंघाड़े के नुकसान हिंदी में

अधिक मात्रा में सिंघाड़े का सेवन करने से पाचन तंत्र खराब होता है अधिक मात्रा में इसके सेवन से कब्ज पेट दर्द आंतों की सूजन की समस्या हो सकती है। सिंघाड़े के सेवन के बाद कभी भी पानी नहीं पीना चाहिए क्योंकि इससे सर्दी खांसी जैसी समस्या भी हो सकती है। सिंघाड़े का अधिक मात्रा में सेवन करने से कफ जैसी समस्याएं भी हो जाती है तो इसीलिए बहुत मात्रा में कभी भी किसी औषधि का सेवन नहीं करना चाहिए।

जिसके वजह से हम स्वस्थ रह पाएंगे तो आप स्वस्थ रहें हम यही उम्मीद करते हैं। इसीलिए हम आप सभी के लिए हर एक फल और सब्जियों के गुणों से वाकिफ कराते रहते हैं। ताकि water chestnut in hindi में आपके बॉडी में जिन चीजों की जब जरूरत हो उसकी एकॉर्डिंग अपने खान-पान को बनाकर के बीमारियों को अपने आप से दूर रखें और अपने आप को हेल्दी और स्वस्थ रख सके।

समापन

तो दोस्तों उम्मीद करता हु “water chestnut in hindi सिंघाड़ा हिंदी में ”आपको ये पोस्ट अच्छा लगा होगा।

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।


इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते है और हमें E-Mail भी कर सकते हैं |

यदि आपके पास Hindi का कोई ,Health Tips in Hindi में जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते है तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-Mail करे | हमारी E-Mail Id है – admin@gyankibate.com यदि आपकी पोस्ट हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने Blog पर Publish करेंगे |

इसे भी पढ़े

Spread the love

Leave a Comment