tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में

आज के इस ब्लॉग में tulsi ke fayde in hindi के बारे में बात करेंगे कि तुलसी क्या होता है ये कितने प्रकार की होती है इसके क्या लछ्ण होते है और सभी प्रकार के तुलसी के क्या गुण है तथा किस प्रकार तुलसी हमारे दैनिक जीवन में उपयोगी है और इस उपयोगिता के साथ तुलसी के औषधिय गुण क्या क्या है तथा इसके पत्तियों का किस किस रोग में इस्तेमाल किया जाता है। और किस कारण तुलसी को पौधों में सर्वोपरी माना जाता है तथा इसके विशेष उपयोगिता के बारे चर्चा किया गया जो कि प्रत्यछ है।

(और पढ़े ginger benefits in hindi अदरक फायदा करता है हिंदी में )

Table of Contents

tulsi ke prakar in hindi तुलसी के प्रकार हिंदी में

मैं आपको तुलसी के बारे में एक दो चीजें बताऊंगा अब देखिए सबसे पहले चीज तो आप यह समझिए कि तुलसी को तुलसी असल में इसलिए कहा जाता है क्योंकि पूरे के पूरे देश में ऐसी कोई भी औषधि है ही नहीं जो किसी भी मामले में किसी भी तरीके से तुलसी के बराबरी कर सकें। और इसी से तुलसी यानी कोई ऐसी चीज जिसकी तुलना किसी से भी नहीं की जा सकती। यह हो गई एक चीज दूसरी चीज वैसे तो तुलसी बहुत सारी तरह की होती है पर भारत में खास तौर पर तीन तरह के तुलसी सबसे ज्यादा पाई जाती है।

shree tulsi ke fayde in hindi श्री तुलसी के फायदे हिंदी में

जानकारी के लिए तुलसी में से पहली होती है रामा तुलसी या श्री तुलसी इसकी पत्तियां हरे रंग की होती हैं तथा दूसरी तरह की तुलसी होती है कृष्णा तुलसी या श्यामा तुलसी और इसकी पत्तियां जो है थोड़ा सा जामुनी रंग लिए हुए होती हैं। और तीसरी तरह के तुलसी जो होती है वह होती है वन तुलसी और इसकी पत्तियां गहरे हरे रंग की होती है।अब सवाल यह उठता है कि इन तीनों में अंतर क्या होता है।और देखिए इस चीज को समझने के लिए आप सबसे पहले इस चीज को समझिए कि तुलसी में बहुत सारे तरह के फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो बहुत सारे अलग-अलग तरीकों से अपने फाइटोकेमिकल के अलग-अलग कंसंट्रेशन की वजह से आपके शरीर को बहुत सारे अलग-अलग तरीके से फायदे पहुंचाते हैं।

इस चीज को जरा सा एग्जांपल से समझ कर भी देख लीजिए। देखिए तुलसी के दो की इंग्रेडिएंट्स जो होते हैं उनमे से एक होता है एउजेनॉल जो कि बेहतरीन किस्म का एंटीसेप्टिक होता है। दूसरा होता है रोसमारिनिक एसिड जो कि एक बेहतरीन किस्म का एंजिओलेटिक होता है। यानी दिमाग के लिए बहुत ही अच्छा होता है। और इसी से अगर किसी भी तरह की बीमारी या इन्फेक्शन के बारे में बात की जाए तो फर्स्ट च्वॉइस वन तुलसी है और अगर किसी भी तरह के दिमाग से रिलेटेड चीज के बारे में बात की जाए तो फर्स्ट च्वॉइस कृष्ण तुलसी है।

shyam tulsi ke fayde in hindi श्याम तुलसी के फायदे हिंदी में

एक एक करके तुलसी के सभी फायदों के बारे में भी जान लेते हैं शुरुआत दिमाग से करते हैं। देखिए आजकल के जमाने में अति की पढ़ाई और अति के कैरियर ऑप्शनंस और एस्पिरेशन की वजह से साइकोलॉजिकल स्ट्रेस बहुत ज्यादा बढ़ चुका है जिसकी वजह से एंजायटी स्ट्रेस और डिप्रेशन की परेशानी जो है यह लगभग लगभग सभी को रहती ही है। पर तुलसी की सबसे बड़ी खासियत यह होती है कि तुलसी एक बेहतरीन एडेप्टोजन होता है जो आपके शरीर में जाकर सीधे-सीधे corticosterone को कम करना शुरू कर देता है।

जिसका सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि आपका मूड अच्छा रहने लगता है। और moodswengs जो होते हैं यानी बिना किसी वजह से चिड़चिड़ा हर जो रहती है वह होना बंद हो जाती है। इसके अलावा तुलसी एक बेहतरीन नुट्रोपिक होता है। तुलसी लेने से आपका कॉग्नेटिव फंक्शन जो है यह हर तरह से बेहतर होना शुरू हो जाता है। tulsi ke fayde in hindi में इस चीज को जरा सा समझ ले लीजिए देखिए कॉग्निटिव फंक्शन का बेहतर हो जाने से मतलब है कॉग्निटिव फ्लैक्सिबिलिटी का बढ़ जाना यानी एक समय में एक से ज्यादा चीजों को कर पाना यानी मल्टीटास्किंग कर पाने की काबिलियत बढ़ जाएगी।

van tulsi ke fayde in hindi वन तुलसी के फायदे हिंदी में

इसके अलावा आपकी सॉर्ट टाइम मेमोरी और वर्किंग मेमोरी भी बढ़ जाएगी जिसकी वजह से आपका अटेंशन स्पैन बढ़ जाएगा। अब सवाल यह उठता है कि वर्किंग मेमोरी और अटेंशन स्पैन बढ़ जाने से क्या होगा इससे यह होगा कि आप बेहतर तरीके से अपने काम पर कंसलट्रेट कर पाएंगे। चीजों को अच्छी तरीके से याद कर भी पाएंगे और उन्हें अच्छी तरीके से याद रख भी पाएंगे जिसकी वजह से आपकी ओवरऑल प्रोडक्टिविटी बढ़ जाएगी।

इसके अलावा तुलसी लेने का एक बहुत बड़ा फायदा यह भी होता है की जब आप सोते हो तो आपको बहुत ही गहरी नींद आती है और जब आप जागते हो तो एकदम तरोताजा और जोश से भरपूर होते हो यानी सुबह सुबह जागने के बाद जो आलस आता है वह आलस आना बंद हो जाता है।tulsi ke fayde in hindi में एक चीज और भी बता देता हूं देखिए वह लोग जो एनजीओलेट्रिक्स लेते हैं या कि फिर किसी भी तरह का एंटी डिप्रेशन जो लेते हैं आप इन दवाइयों के साथ-साथ नेचुरल फॉर्म में तुलसी लेना शुरू कर दीजिए और आप को इन चीजों को लेने की जो डिपेंडेंसी है यह 2 से 3 महीने के अंदर अंदर खत्म हो जाएगी।

tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में
tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में

khali pet tulsi khane ke fayde in hindi खाली पेट तुलसी खाने के फायदे हिंदी में

अब आप आ जाइए मुंह पर और देखिए मुंह से संबंधित तीन सबसे बड़ी परेशानियां होती है वह होती है दांतों का सड़ना मुंह में छाले होना और सांसो में बदबू आना और इन तीनों ही तरह की परेशानियों के लिए कुल मिलाकर यह किया जाता है की वन तुलसी के पत्तों को छाया में सुखा लिया जाता है और उसका पाउडर बना लिया जाता है। और सुबह जब दांत साफ किए जाते हैं तब 1 ग्राम तुलसी के पत्तों के पाउडर में 1 ग्राम सरसों का तेल मिला लेते हैं और उससे मंजन कर लेते हैं।

अगर पायरिआ है और दांतो पर जो खट्टा या ठंडा लगता है आप केवल इस तरह से मंजन करना शुरू कर दीजिए और यह परेशानियां जड़ से खत्म हो जाएंगी।अब आइए डाइजेस्टिव सिस्टम पर और देखिए तुलसी जो है यह पेट की छोटी-मोटी परेशानियां जैसे कि पेट में दर्द होना गैस हो जाना जी मिचलाना या उल्टी आना या कि फिर दस्त लगने जैसी परेशानियों को वैसे ही सही कर देती है।

इसके अलावा खट्टी डकारों या कि वह लोग जिन्हें आमतौर पर थोड़ी बहुत एसिडिटी रहती है या कि फिर एसिड रिफ्लक्स के लिए जिसमें आम तौर पर एक गीली सी डकार आती है और ऐसा लगता है जैसे पूरे गले में आग लग चुकी है। इन तीनों ही तरह के मामलों में तुलसी की कोई काट नहीं है। इसके अलावा तुलसी की एक बहुत ही बड़ी खासियत यह भी होती है कि तुलसी जो है यह आपके लिवर की एफिशिएंसी बढ़ा देती है।

tulsi khane ke fayde in hindi तुलसी खाने के फायदे हिंदी में

इस चीज को जरा सोच समझ लीजिए देखिए लिवर के बहुत सारे फंक्शन सोते हैं जिसमें से एक फंक्शन होता है। शरीर को डिटॉक्सिफाइड करना और लिवर क्या करता है कि जितने भी टॉक्सिंस आपके शरीर में जाते हैं लिवर उन्हें एब्जॉर्ब करता है प्रोसेस करता है डिटॉक्सिफाइ करता है और उन्हें शरीर से बाहर भेज देता है क्योकि तुलसी अपने आप में एक बेहतरीन डिटॉक्सिफाइंग एजेंट होता है। जब आप तुलसी लेते हो तो आपको सिनेर्जिस्म का फायदा मिलता है यानी एक और एक फिर ग्यारह हो जाता है।

अब सवाल यह उठता है कि डिटॉक्सिफिकेशन पर इतना ज्यादा जोर क्यों दिया जाता है। आप इस चीज को जरा सा ऐसे समझकर देख लीजिये कि आजकल हमारे खाने में बहुत सारे तरह के processed food और packaged foodआ चुके हैं। और उनमें बहुत सारे तरह के preservatives और Industrial chemicals होते हैं जो हर तरह से हमारी सेहत के लिए हानिकारक होते हैं। इस चीज को भी समझिए कि ऐसा हो सकता है कि आप किसी भी तरह के processed food और packaged food नहीं लेते हो पर अगर आप फल या हरी सब्जियां भी खाते हैं

उन्हें भी Fertilizer और Pesticide तो होते ही हैं और अच्छी खासी quantiti में होते हैं। और इन सभी चीजों से हमारे शरीर को नुकसान नहीं पहुंचे इसके लिए शरीर को डिटॉक्सिफाई करना और डिटॉक्सिफाइड रखना बहुत ही ज्यादा जरूरी होता है। और उसका सबसे आसान तरीका होता है तुलसी लेना। अब आ जाइए किडनी पर और देखिए तुलसी जो है यह एक बेहतरीन diuretic होती है। जो आपके खून में फ्लुएड ,मिनरल्स और यूरिक एसिड को बैलेंस करती है।खून में यूरिक एसिड का बढ़ जाना किडनी में स्टोन हो जाने की सबसे बड़ी वजह होती है।

tulsi ke bare me jankari in hindi तुलसी के बारे में जानकारी हिंदी में

अब तुलसी यूरिक एसिड लेवल को नार्मल कर देती है। और उनको नॉर्मल ही रखती है क्योंकि यह एक बेहतरीन diuretic होती है।अगर आप तुलसी लेते हैं तो किडनी के जो स्टोंस है वह यूरीन के जरिए बाहर निकल जाते हैं। इसके अलावा तुलसी यूरिक एसिड लेवल को नार्मल करती है और उन्हें ही नॉर्मल कर रखती है। तुलसी 3 तरह के लोगों के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद है। वह जिन्हें डायबिटीज है। वह जिन्हें किसी भी तरह का मेटाबॉलिक सिंड्रोम है।

तीसरे हैं वह लोग जो बॉडीबिल्डिंग करते हैं और बहुत सारी तरह का प्रोटीन या प्रोटीन सप्लीमेंट्स लेते हैं। तथा वह लोग जो ज्यादा प्रोटीन लेते हैं उनके खून में यूरिक एसिड की quantity बढ़ जाती है। जिसकी वजह से बहुत सारी तरह की बीमारियां हो जाती हैं। अब चर्चा करते है Respiratory System पर यह Respiratory System पर इतनी ज्यादा फायदेमंद होती है कि इस चीज को ऐसे समझ कर देख लीजिए कि आयुर्वेद की ऐसी कोई दवाई हो ही नहीं सकती जिसे किसी भी तरह के Respiratory Disorders या Respiratory disease के लिए बनाया गया हो और उसमें तुलसी ना हो।

तुलसी एक बेहतरीन एक्सपेक्टोरेन्ट होती हैं यानि यह कफ को ढीला करके शरीर से बाहर निकाल देती है। तुलसी ना केवल साधारण सर्दी खांसी और जुकाम को सही कर देती है बल्कि अपने एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल प्रॉपर्टीज की वजह से ट्यूबरक्लोसिस के पेशेंट के लिए भी बहुत ज्यादा फायदेमंद होती है। अब चर्चा करेंगे Cardiovascular system पर और देखिए तुलसी जो है यह आपके lipid profile को बेहतर करती है यानि अगर आप रेगुलरली तुलसी लेते हो तो इसकी वजह से आपका सीरम कोलेस्ट्रॉल ,ट्राइग्लिसराइड, फास्फोलिपिड और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल कम होता ही होता है

tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में
tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में

tulsi ras ke fayde in hindi तुलसी रस के फायदे हिंदी में

तुलसी लेने का एक बहुत बड़ा फायदा यह भी होता है। तुलसी जो है आपके शरीर में HDL कोलेस्ट्रॉल जो कि आपके शरीर में अच्छा कोलेस्ट्रॉल होता है उसे बहुत बेहतरीन तरीके से बढ़ा देती है। और इसका सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि ब्लड कोलेस्ट्रॉल केमिकल्स और पोलूशन के वजह से ब्लड वेसेल्स में जो कठोरता आ जाती है atherosclerosis जिसे कहते हैं वह नहीं आ पाती। और ब्लड वेसेल्स जो ये कसी हुई और लचीली बनी रहती है। इसके वजह को भी जानते है कि ब्लड वेसल्स में जो कठोरता आती चली जाती है उसकी एक वजह उम्र भी होती है।

अगर आप तुलसी लेते रहते हैं तो आपकी ब्लड वेसेल्स में कसावट और लचीलापन जो है वह ज्यादा लंबे समय तक बना रहता है।यह हो गई एक चीज दूसरी चीज देखिए आप यह भी समझिए कि तुलसी जो है यह आपका स्टैमिना भी बहुत ज्यादा बढ़ा देती है। और ऐसा इसलिए है क्योंकि तुलसी जो है यह आपके शरीर की ऑक्सीजन को कंज्यूम करने की उसे प्रोसेस करने की और उससे एनर्जी निकाल लेने की काबिलियत को बहुत ज्यादा बढ़ा देती है।

आपका शरीर जितने ज्यादा एफिसिएंसी के साथ ऑक्सीजन को प्रोसेस करने लग जाएगा उतना ही काम आपके शरीर में लैक्टिक एसिड बनेगा जिसकी वजह से आप किसी भी काम को ज्यादा इंटेंसिटी के साथ ज्यादा देर तक कर पाओगे।और इसीलिए अगर आप किसी भी तरह के स्पोर्ट में हैं या की बफर अगर आप पुलिस या मिलिट्री के किसी एग्जाम की तैयारी कर रहे हैं। आपको अपने डाइट में तुलसी जरूर शामिल करना चाहिए।

tulsi ke patte ke fayde in hindi तुलसी के पत्ते के फायदे हिंदी में

अब जानते है इंटरग्लोमेट्री सिस्टम के बारे में देखिए तुलसी जो है यह एक बेहतरीन anti-inflammatory एंटी एलर्जीक एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल होती है। जिसकी वजह से तुलसी जो है यह कील मुंहासे फोड़े फुंसी दाद खाज ,कटने और छीलने पर खास तौर पर फायदेमंद होती है।इसके अलावा रिंगवॉर्म के कारण जो स्किन डिजीज होने पर तुलसी बहुत फायदेमंद साबित होता है साथ ही साथ ल्यूकोडरमा एग्जिमा और सोरायसिस के पेशेंट के लिए भी तुलसी बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होती है।

और इसके फायदे के लिए असल में यह किया जाता है कि तुलसी का रस पिया भी जाता है और जिस जगह पर इंफेक्शन है उस जगह पर तुलसी का रस लगाया भी जाता है।दूसरी जी आप यह भी समझ के बेहतरीन डाईफोरेटिक होती है।जिसकी वजह से चाहे किसी भी तरह के बीमारी हो और उस बीमारी की वजह से चाहे कितना भी बुखार हो तुलसी हर तरह के बुखार को उतारने के लिए एक रामबाण औषधि है। तुलसी एक बेहतरीन डाईफोरेटिक होती है।

तुलसी असल में पसीना लाकर बुखार को उतारती है जबकि बुखार को उतारने का सबसे बेहतरीन और नेचुरल तरीका होता है यानी कि उस तरह का तरीका जिसका साइड इफेक्ट हो ही नहीं सकता इसके अलावा तुलसी एक बेहतरीन एनाल्जेसिक यानी दर्द निवारक होती है।अगर आपके साथ कुछ इस तरह की परेशानी होती है कि शरीर में कहीं ना कहीं दर्द होता ही रहता है या बना ही रहता है। तो बजाय इसके कि आप रोज रोज कोई दवाई लेना शुरू करें।

tulsi ke beej aur mishri ke fayde in hindi तुलसी के बीज और मिश्री के फायदे हिंदी में

बेहतर यह होगा कि आप तुलसी लेना शुरू कर दीजिए और आपकी शरीर में हमेशा जो किसी ना किसी तरीके का दर्द बना रहता है वह खत्म हो जाएगा। अब चलते हैं tulsi ke fayde in hindi में रिप्रोडक्टिव सिस्टम पर और देखते हैं जो तुलसी के बीज होते हैं। वह आदमीयों के रिप्रोडक्टिव सिस्टम के लिए बहुत ही ज्यादा फायदेमंद होती है।यानी कि sperm quality sperm quantity sperm motility तो खैर बढ़ती ही बढ़ती है।

अगर केवल 3 महीने तक रात के समय गाय के ढाई सौ ग्राम ठंडे दूध के साथ 1 ग्राम तुलसी के बीज और 10 ग्राम मिश्री के साथ ले लिया जाए तो आपके स्तंभन शक्ति यानि टाइम ड्यूरेशन कई गुना बढ़ जाती है। इसके अलावा अगर नाईट फाल की परेशानी है तो आप इसी चीज को एक महीने तक लेकर देखिये और लेते रहिये।आप इस चीज को भूल जाएंगे कि आपको इस तरह की कभी कोई परेशानी भी हुआ करती थी।

tulsi ke beej ke fayde in hindi तुलसी के बीज के फायदे हिंदी में

अगर आप एक आदमी है और आपकी शादी होने वाली है तो आप किसी भी तरह के दूसरी आयुर्वेदिक औषधि का इस्तेमाल ना करें। और आप बताए गए तुलसी के बीजों का इस्तेमाल करें क्योंकि बाकी की जितनी भी चीजें हैं सब के सब असर दिखाने में 6 महीने का समय लेती ही है जबकि तुलसी की जो बीज है यह 1 महीने के अंदर अंदर अपना असर दिखाना शुरू कर देते हैं। अब चलते हैं अगले फायदे पर और देखिए आयुर्वेद में तुलसी को रसायन माना जाता है

ऐसा इसलिए है क्योंकि तुलसी में बहुत अच्छी quantity में एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। जो फ्री रेडिकल से होने वाले नुकसान से हमारे शरीर को बचाते हैं। इसके अलावा तुलसी की एक बहुत बड़ी खासियत यह भी होती है कि तुलसी हैवी मेटल्स को यानि लैड आर्सैनिक कैडमियम क्रोमियम और मरकरी जो आज कल हमारे खाने में बहुत ज्यादा बढ़ चुके है। इनको भी हमारे शरीर से बहार निकाल देती है।

tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में
tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में

tulsi ki jad ke fayde in hindi तुलसी की जड़ के फायदे हिंदी में

तुलसी एक बेहतरीन रेडियोप्रोटेक्टिव भी होती है जो किसी भी तरह के रेडिएशन के वजह से होने वाले ऑक्सीडेटिव सेलुलर और क्रोमोसोमल डैमेज से भी शरीर को बचाती है इसका मतलब यह हुआ कि अगर आप तुलसी लेते रहते हो तो फिर आप बहुत सारे तरह के कैंसर से भी बचे रहते हो। इसके बारे में भी बताएंगे कि हम जो मोबाइल फोन इस्तेमाल करते हैं उसमें से अच्छी खासी रेडिएशन निकलती ही रहती है जो हमारी ब्रेन एक्टिविटी, रिएक्शन टाइम और स्लीप पैटर्स को बहुत बुरी तरह से नुकसान पहुंचाती है।

अगर आप मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं तो फिर आपको तुलसी जरूर लेना चाहिए यह हो गई तेरी चीज चौथी तुलसी की एक कमाल की खासियत ये भी होती है कि अगर आप किसी भी तरह की दवाई लेते हैं तो तुलसी उस दवाई की एफिसिएंसी को बढ़ा देती है साथ ही साथ उस दवाई से होने वाले साइड इफेक्ट को कम कर देती है। पांचवी चीज तुलसी ना केवल प्रचुर मात्रा में ऑक्सीजन छोड़ती है बल्कि तुलसी वातावरण को भी एक दम शुद्ध कर देती है।

इसके बारे में आप समझ भी लीजिए देखिए तुलसी के पत्तों से लगातार इसके ingredients उड़ते रहते हैं जो आपके नाक के रास्ते आपके शरीर में जाते हैं और जो फायदा बहुत सारी तुलसी खाने से मिलता है अगर आप केवल तुलसी के पास बैठकर प्राणायाम या मेडिटेशन करेंगे तो आपको उससे बहुत ज्यादा फायदा मिलेगा। और इसीलिए अगर आप प्राणायाम या मेडिटेशन करते है तो फिर आपको इस बात पर खास तौर पर ध्यान देना चाहिए कि ये दोनों काम आपको बैठकर तुलसी के पास करना चाहिए।

tulsi ka istemal kaise kare in hindi तुलसी का इस्तेमाल कैसे करे हिंदी में

इसके अलावा घर में तुलसी लगाने का बहुत बड़ा फायदा यह भी होता है की तुलसी की गंध की वजह से बहुत सारे कीड़े मकोड़े खासतौर पर मच्छर और मक्खी दूर ही रहते हैं। चलते हैं अब सबसे बड़े तुलसी के फायदे पर वह फायदा यह है कि तुलसी आपकी इम्युनिटी बढ़ा देती है।और आपके शरीर में नेचुरल किलर और टी हेल्पर सेल्स की quantity एक दम नेचुरल तरीके से बहुत ज्यादा बढ़ा देती है।और नेचुरल किलर और टी हेल्पर सेल्स की सबसे बड़े खासियत ये होती है की इन्शान के शरीर की इम्युनिटी पूरा का पूरा खेल इन्ही दो चीजों पर टिका होता है।

तुलसी कब लेना चाहिए कैसे लेना चाहिये और कितना लेना चाहिए।इसका सबसे सही तरीका ये रहता है कि राम तुलसी श्याम तुलसी और वन तुलसी के पाच पाच पत्ते लेकर उसको तब तक उबालिए जब तक कि वो केवल आधा गिलाश पानी न रह जाए और उसको पी जाइये। और उसको पिने का सबसे सही टाइम होता है सुबह कि चाय कि जगह और शाम कि चाय कि जगह।

आखरी चीज देखिये पुरे के पुरे आयुर्वेद में अगर किसी एक औषधि को माँ माना गया है तो तुलसी को माना गया है। ऐसा इसलिए है क्योकि जिस तरह से एक माँ अपने बच्चे कि देखभाल करती है और जिस तरह से उसका पोषण करती है उस तरह से दूसरा और कोई भी कुछ भी करके नहीं कर सकता है। और इसीलिए आप अपने घर में तुलसी जरूर लगाइए और उसका सेवन रोज कीजिये।

समापन

तो दोस्तों उम्मीद करता हु “tulsi ke fayde in hindi तुलसी के फायदे हिंदी में ”आपको ये पोस्ट अच्छा लगा होगा।

दोस्तों अगर आपको ये पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करे।


इसके अतिरिक्त आप अपना Comment दे सकते है और हमें E-Mail भी कर सकते हैं |

यदि आपके पास Hindi का कोई ,Health Tips in Hindi में जानकारी है और यदि आप वह हमारे साथ Share करना चाहते है तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ हमें E-Mail करे | हमारी E-Mail Id है – admin@gyankibate.com यदि आपकी पोस्ट हमें पसंद आती है तो हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ अपने Blog पर Publish करेंगे |

इसे भी पढ़े

Spread the love

Leave a Comment